आशा से गुफ़्तगू


आशा से मेरी मुलाक़ात मेरे दफ़्तर में दाखिल होने के दूसरे दिन हुई | उनसे मिलने से पहले उनके बारे में अपने साथियों से काफ़ी सुना था | इस वजह से मैं थोड़ी बहुत तैयार भी थी ऐसी हस्ती से मिलने जो, लोकप्रिय राय के अनुसार, मिलनसार और खुशमिजाज़ थी | किसी ने शायद सही कहा है: जनता कभी ग़लत नही होती | जैसा सुना था वैसा ही पाया | मिलने के आधे घंटे के अंदर मैं उनसे हँसने बोलने लग गयी | मुझ जैसे अंतर्मुखी इंसान के लिए यह एक परिवर्तन था | मिलने के कुछ घंटों में ही हम दोनो ने व्यक्तिगत और पेशेवर स्तर पर कई सारे चर्चे कर डाले | नारीवाद सोच से लेकर गैर संस्कारी संस्थाओं का योगदान, लिंग, जेंडर और लैंगिकता से लेकर काम के प्रति प्रतिबद्धता: इन सभी विषयों पर हमने ना सिर्फ़ चर्चा बल्कि आलोचना भी की | उनके साथ बातचीत करने में मुझे बहुत अच्छा लगा | जिस आसानी से मैं उनसे संवाद कर रही थी, ऐसा लगा मुझे एक ऐसी सहेली मिली है जिसे मैं बरसों से जानती हूँ |

उनकी व्यक्तिगत ज़िंदगी इतनी कमाल की है की सुन कर मैं दंग रह गयी और उनके होसले को मैने मन ही मन दाद दिया | बी. सी .ए. (बाचुलर्स इन कंप्यूटर अप्लिकेशन ) में तीन साल विशेष रूप से पढ़ने के बावजूद, एक लड़की होने की हैसियत से, आशा को कंप्यूटर नाम के साधन से दूर रखा जाता था | अपनी खुद की आर्थिक स्थिति और सीमित विकल्प के कारण उनकी शिक्षा भी सीमित रूप से ही पूरी हो पाई | अपनी ही कक्षा में आशा अल्पसंख्यक थी | ऐसे माहौल में ना तो कंप्यूटर या तकनीक के प्रति रूचि हुई और ना ही इस ज्ञान को आगे बढ़ाने का ख्याल आया | कंप्यूटर में ग्रॅजुयेट लड़की ने अपनी ज़िंदगी का पहला ई-मैल फ़ैट (फेमिनिस्ट अप्रोच टू टेक्नालजी ) में आकर टाइप किया | इस सच्चाई को सुनकर मैं हैरान रह गयी | जिस लड़की ने इस विषय को अपने तीन साल दिए और जो सामाजिक पूर्व धारणाओं की वजह से अपने रूचि को कभी जगा ना सकी, आज एक गैर संस्कारी संस्था में ना ही कंप्यूटर से संबंधित काम करती है बल्कि टेक सेंटर में आने वाली किशोरियों को कंप्यूटर और तकनीक से संबंधित विषय सीखती भी है | आज ना ही उन्हे रूचि एवं दिलचस्पी है बल्कि टेक सेंटर को एक “वोमन फ्रेंदली” रूप उन्होने ही दिया है |

आशा फ़ैट की सबसे पुरानी सदस्य है और हमारे परिवार से तीन साल से जुड़ी हैं | वैसे तो उनका पद प्रोग्राम असोसीयेट का है लेकिन मूल रूप से वह एक शिक्षिका हैं | जो भी किशोरियाँ हमारे टेक सेंटर में कंप्यूटर और इंटरनेट सीखने आती हैं, उन्हे वो ही पढ़ती हैं | उन्होने खुद अपना ज्ञान अपरंपरागत तरीके से पाया है | फ़ैट से जुड़ने के बाद ही उनके अंदर कंप्यूटर आदि यंत्र के प्रति भय मिटा | आशा के पढ़ाने का ढंग किताबी नहीं है | वह बातचीत द्वारा लड़कियों को व्यस्त रखती हैं | भाषण देना उनकी आदत नहीं बल्कि लड़कियों को इस तरह प्रोत्साहित करती हैं की हर क्लास में वे ज़्यादा बोलें, ना कि वो | हर थियरी को प्रॅक्टीस से जोड़ना भी उनकी एक अदभुद कला है |

नारीवाद और नारीवाद सोच पर एक सेशन के दौरान उन्होने “फेमिनिसम” जैसे शब्दजाल को बहुत ही सरल रूप में समझाया: वह सोच जो हर मौजूदा अधिकार पर “क्यों?” का सवाल उठाए | मेरी सारी पढ़ाई एक तरफ़ और यह सरल परिभाषा एक तरफ़ | आख़िरकार, नारीवाद सोच तो यही है ना: उन सारे भेदभाव और सामाजिक अन्यायों के खिलाफ आवाज़ उठाना जो औरतों के सशक्तिकरण में बाधा बनती है | लड़कियों के उत्साह का शिकार मैं भी बनी | उस भरी कक्षा में आशा के एक नये विद्यार्थी का जन्म हुआ और अपने इस नये अवतार से मैं आज भी प्रसन्न एवं संतुष्ट हूँ |

मेरे लिए आशा एक ऐसी शिक्षिका हैं जो ना ही दूसरों को सिखाती हैं बल्कि दूसरों से वे खुद भी सीखती हैं | मेरा इस लेख को हिन्दी में लिखने का भी एक प्रमुख कारण है | वैसे तो मैं खुद को कोई लेखिका नहीं समझती परंतु जब भी लिखती हूँ, अँग्रेज़ी में ही लिखती हूँ | आदत कह लीजिए, या रूचि, या ज्ञान | यदि मैं आज हिन्दी में इतना कुछ लिख पा रही हूँ तो वो आशा की ही देन है | उनसे मिलने के पश्चात मेरे ज़ंग लगे हिन्दी को एक नयी जान मिली और मैं इस भाषा से और रूबरू हुई | हिन्दी में अपने विचार प्रकट करने का कारण एक और भी है: आशा खुद अपने अँग्रेज़ी के ज्ञान से ज़रा शरमाती हैं | अँग्रेज़ी के अधिकतर माहौल में खुद को सीमित पाती हैं | आज उन्ही पर कहानी लिखना हिन्दी में ही मुनासिब लगा | आशा से आशा करती हूँ की मेरी इस प्रयास को वो सराहेंगी और इसी तरह अपने अदभुद ज्ञान और उत्साह को हर तरफ बाँटेंगी | आपको ढेर सारा प्यार और स्नेह xx

A cheerful Asha at the Tech Center

A cheerful Asha at the Tech Center

I met Asha on the second day of joining office. Before meeting her, I had heard a lot about her vibrant personality. This is why I was somewhat prepared to meet someone who, according to popular opinion, was an affable and positive person. Maybe they are right when they say that the public can never be wrong. She turned out to be exactly as I had heard. Within half an hour of meeting her, I began to laugh and talk with her. For an introvert person like me, this was a major exception to the rule. Within hours of meeting, we had already discussed so many things both at the personal and professional level. Ranging from feminist thought to their identity in the development sector, sex, gender, sexuality and work commitment: not only did we discuss but offered each other our very own critique on these topics. I really enjoyed striking a conversation with her. The ease with which I was interacting with her, it felt like this is a friend I have known for a long time.

Her own personal life journey is so incredible that I was stumped to hear about it. I appreciated her morale and self confidence as she unraveled her story. Despite enrolling in a Bachelors for Computer Applications and giving three years of her life to obtaining this degree, as a woman, Asha was categorically kept away from an instrument called the computer. Her own financial status only allowed for limited options as far as completing her basic education was concerned. A woman, and by extension, a minority in her own class, neither did she develop any specific interest towards computers and technology nor did she get an opportunity to expand her knowledge on the same. A graduate in computers, Asha typed her first e-mail in the office of FAT. I was surprised to hear about her reality. A woman who gave three years of her life to computers and disliked it majorly owing to societal assumptions about a woman’s capability in front of a technical instrument. Today, she was not only working in an NGO using a computer but also teaching computers and technology to adolescent girls at FAT’s Tech Center. Today, not only is she interested and zestful about it but is a major contributor towards making the Tech Center a “woman friendly” space.

Asha is the oldest family member of FAT who has been associated with us for the past three years now. Strictly speaking, she is a “Programme Associate”. However, I view her as a teacher as that is the identity I see her as. She teaches computer and Internet to the young girls who come to our Tech Center. She herself is a live example of having learned the unconventional way. It is only after joining FAT that her fear of machines like computers went away. Asha’s teaching style has never been bookish. She keeps the girls engaged through a healthy and friendly interaction. She is not the cliched lecturing woman. Instead, she encourages girls to speak more in each of her classes. She is incredibly talented in converting the theory that she has learned and understood into practice inside a live classroom.

During one of the sessions on feminism and feminist thought, Asha deconstructed the supposed jargon around feminism in the most simple and clear manner: that which questions authority and asks the question “why?”. My entire theoretical knowledge was one; her own understanding and definition was another. After all, isn’t feminism all about raising one’s voice against any discrimination and societal oppression that becomes a barrier in the path of woman’s empowerment? The enthusiasm among girls spread and infected me. A new student was born in that class and even today, I am extremely happy and satisfied with my new avatar as Asha’s student.

To me, Asha is the kind of teacher who not only teaches but also learns from what her students teach her. There is a reason why I chose to write this article in Hindi. While I do not consider myself to be a writer but whenever I do write (or have written), I have chosen to do so in the English language. Call it my habit, interest or sheer knowledge. But if I have mustered enough courage to actually pen my words in Hindi, it is Asha’s contribution. It is only after meeting and knowing her that my rusted Hindi got a new life and I met this wonderful language all over again. Expressing my thoughts in Hindi also has an ulterior motive. Asha is conscious of her Hindi. In a world where English is the norm, Asha finds her own knowledge and grasp over the language to be limited. But to write a story about her demanded that I write it in a language that she relates to. I hope that Asha would appreciate this effort of mine and would continue to inspire and encourage several people with her knowledge and enthusiasm. Lots of love and hugs xx

Feminist Approach to Technology (FAT) is a a not-for-profit organization that believes in empowering women by enhancing their awareness, interest and participation in technology. The views expressed in this article do not necessarily reflect that of the organization.

This article was originally published on Campus Diaries.

Advertisements

Speak!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s